अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.08.2008
 

सफर की तैय्यारी
डॉ. रति सक्सेना


तुमने घड़ी उठाई,
वक्त तुममें भरने लगा
सुइयों से नापता हुआ
पेन में भर लिया तुमने
सारा कि सारा आत्मविश्वास
कुछ लिया इधर से
कुछ उधर से
हड़बड़ाते हुए चल दिए
फिर एक सफर पर
तुम्हारी घड़ी की सुई ने टोका
कुछ भूल तो नहीं गए
नहीं, तुमने सिर हिलाया
चल दिए,

आधा रास्ता पार कर
तुम्हें कुछ याद आया
इधर मेरे मोबाइल पर
संदेश आया
जा रहा हूँ
ध्यान रखना


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें