अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.08.2008
 

पछुआ के निश्वास
डॉ. रति सक्सेना


जब भी पछुआ चला करती
माँ की गुनगुनाहट बरस
झप्प-झप्प बुझने लगती
मरुस्थली रेत पर,
कम हो जाती उमस
बन्द कमरे की
आज भी जब आसमान
तप कर चूने लगता है
मेरे कानों में लहराने लगती हैं
माँ के गीत की लहरियाँ
सागर के हाथ उठ जाते हैं ऊपर
बरसने लगते हैं गीत झनाझन
मेरे होंठों से
माँ के निश्वास बन।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें