अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.08.2008
 

दरवाजा खटखटाते सपने
डॉ. रति सक्सेना


इधर कुछ दिनों से सपने ने
दरवाजा नहीं खटखटाया
मेरे फोन की घंटी नहीं बजी
सपने को शायद
नंबर नहीं मालूम था
सोचा कि ई-मेल भेज
हालचाल पूछ लूँ सपने की
न जाने कहाँ खो गया आई डी
सपने के साथ-साथ
खटखटाता कैसे दरवाजा?
मेरे पास दरवाजा जो न था
न जाने कब और कैसे मेरे घर का दरवाजा ही खो गया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें