अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.08.2008
 

आँसुओं का खजाना
डॉ. रति सक्सेना


एक आँसू
उसके लिए
जो अपना न बन सका

एक आँसू
अपना बनने का
दिखावा करने वाले के लिए

एक आँसू
अपने आप से
दोस्ती करवाने वाले के लिए

आँसुओं का खजाना
खत्म हो गया


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें