अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.09.2008
 
समय
रंजना भाटिया

यूँ फिसला जैसे
हाथ धोते वक़्त
साबुन बेसिन में बह जाए !!

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें