अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.09.2008
 
रिश्ता
रंजना भाटिया

तेरे मेरे बीच
       एक दुआ
               एक सदा
                       मेरी बेखुदी
                             तेरी बेरुख़ी
चटका हुआ आईना
       काँपता पीले पत्ते सा
              फिर भी यह रिश्ता
                      जन्म तक
                            यूँ ही चलता रहेगा !!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें