अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.09.2008
 
प्यास
रंजना भाटिया

ज़िंदगी की प्यास
  जिसका कोई अंत नहीं
        एक सिरा ख़ुद के पास
               जवाबों को तलाश करती
                     घुटनों के बल सिसकती
                            ना मालूम इस प्यास का
                  आदि कहाँ है?
       एक सिरे से जुड़ता
दूसरा सिरा कहाँ है?


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें