अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
01.09.2008
 
प्यार
रंजना भाटिया

क्यों आज हवा
हर साँस लगती है अपनी
                 हर फूल ख़ुद का
                 चेहरा-सा लगता है
                            मन उड़ रहा है
                            कुछ यूँ ख़ुश हो के
                                        जैसे इच्छाओं ने
                                        पर लगा लिए हैं
                                                  और रूह आज़ाद हो के
                                                      तितली हो गई है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें