अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.09.2008
 
मेरा वजूद
रंजना भाटिया

तेरे अस्तित्व से लिपटा
यूँ घुट सा रहा है
कि एक दिन

तुझे ..
मैं तन्हा
छोड़ जाऊँगी !!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें