अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
06.17.2007
 
जानती हूँ मैं
रंजना भाटिया


जानती हूँ मैं तेरी मंज़िल नहीं हूँ
जानती हूँ कि मैं तेरा रास्ता भी नहीं हूँ,
पर कुछ देर तो साथ चले थे हम,
कुछ देर तो एक दूसरे के सुख दुख के साथी थे हम,
एक बार पीछे मुड़ के तो देख मेरे कुछ देर के हमराही,
जो सपने, जो धड़कनें, जो जीने की उमंग,
तुम दे गए हो.....
        मैं उन्हें अपने साथ समेटे आज भी,
        उसी दोराहे पर खड़ी हूँ,
        यह जानते हुए भी कि... मैं तेरा रास्ता नहीं हूँ,
                        मैं तेरी मंज़िल भी नहीं हूँ......


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें