अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
02.09.2008
 
एक बोल
रंजना भाटिया

दुनिया के इस शोर में
बस चुपके कह देना
प्यार का एक बोल
पी लूँगी मैं
बंद आँखों से
जो कहा तेरी आँखों ने !!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें