अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
06.17.2007
 
एक अहसास
रंजना भाटिया

पेड़ों से जब पत्ते गिरते हैं तो,
उसको "पतझड़" कहते हैं,
और जब नये फूल खिलते हैं तो,
उसको "वसन्त" कहते हैं,
दूर मिलने का अभास लिए
जब धरती गगन मिलते हैं,
तो उसे "क्षितिज" कहते हैं
पर,

तेरा मेरा मिलना क्या है .....?
इसे न तो "वसन्त",
न तो "पतझड़",
और न "क्षितिज" कहते हैं!
यह तो सिर्फ़ एक अहसास है,
अहसास,

कुछ नही, एक पगडंडी है,
तुमसे मुझ तक आती हुई,
मैं और तुम,
तुम और मैं,
जिसके आगे शून्य है सब.........


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें