अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.02.2016


हमने दुनियादारी देखी

हमने दुनियादारी देखी
दुनिया हमने सारी देखी

जीने की कोशिश देखी
मरने की तैयारी देखी

हारी बाजी जीत गये है
जीती बाजी हारी देखी

फूलों को इतराते देखा
काँटों की लाचारी देखी

महगाई के मारे फिरती
इज़्ज़त मारी -मारी देखी


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें