रामश्याम हसीन

दीवान
आवारगी फ़िजूल है
जो वफ़ा की बात करते हैं
भूखे पेट भजन होता है
शायरी के इस सरो - सामान का
हमने दुनियादारी देखी