डॉ० रामनिवास मानव


कविता

आस्था
कितना मुश्किल है
चितेरे बोल
लौट आओ अश्व
शहर के बीचों-बीच