अंन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख्य पृष्ठ

04.09.2008

 
परिचय   
   
नाम :

डॉ० रामनिवास मानव

जन्म : ८ अक्तूबर, सन् १९५४ को तिगरा, जिला-महेन्द्रगढ़ (हरियाणा) के प्रतिष्ठित स्वतन्त्रता-सेनानी परिवार में ।
शिक्षा : एम० ए० (हिन्दी), पी-एच०डी०, डी० लिट्० तक ।
कृतियाँ : रश्मि-रथ, साक्षी है रोशनी, बोलो मेरे राम, सहमी-सहमी आग, शेष बहुत कुछ (कविता-संग्रह), हम सब हिन्दुस्तानी, आओ गाओ बच्चो, मुन्ने राजा आजा (बालगीत-संग्रह), घर लौटते कदम, इतिहास गवाह है (लघुकथा-संग्रह), स्वतन्त्रता-संग्राम और हरियाणा, स्मृति शेष : पंडित मातादीन
(सम्पादित), हरियाणा में रचित सृजनात्मक हिन्दी-साहित्य (शोध-प्रबन्ध) आदि डेढ़ दर्जन ।
पुरस्कार : हरियाणा साहित्य-अकादमी पुरस्कार, शकुन्तला सिरोठिया बाल-साहित्य पुरस्कार, डॉ० परमेश्वर गोयल लघुकथा पुरस्कार, नागरी बाल-साहित्य संस्थान पुरस्कार, डॉ० अम्बेडकर नेशनल अवार्ड, सृजन सम्मान, अणुव्रत साहित्य पुरस्कार, उदयभानु हंस कविता पुरस्कार, राष्ट्रीय हिन्दी-सेवी सहस्राब्दी सम्मान आदि।
दो दर्जन प्रमुख संस्थाओं द्वारा सम्मानित । मंडी अटेली में सार्वजनिक अभिनन्दन । विक्रमशिला हिन्दी-विद्यापीठ, ईशीपुर द्वारा डी० लिट्० तथा हिन्दी साहित्य-सम्मेलन, प्रयाग द्वारा साहित्यमहोपाध्याय की मानद उपाधि ।
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र में व्यक्तित्व और कृतित्व पर एम० फिल्० हेतु तीन बार शोध-कार्य सम्पन्न।
विशेष :  कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र और चौधरी देवीलाल विश्वविद्यालय, सिरसा द्वारा कविताएँ तथा हरियाणा में रचित
सृजनात्मक हिन्दी-साहित्य और हरियाणा में रचित हिन्दी-महाकाव्य शोध-प्रबन्ध एम० ए० (हिन्दी)-द्वितीय वर्ष के पाठ्यक्रम में शामिल।
सम्पर्क : manavbharti@gmail.com