अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
बरसाती नदी
रामेश्वर कम्बोज हिमांशु

अभिशप्त -सी लेटी हुई है
असहाय बरसाती नदी।
बगूलों को शीश पर
लपेटे नज़र आती नदी।।
रेत के लम्बे सफर में
हाँफने लगी है धूप ।
हुआ दुर्लभ दो बूँद जल
तृषित छटपटाती नदी।
रूठकर बैठा है मौसम
मेघ परदेसी हुए ।
थक गई हर रोज़ इक
यहाँ भेजकर पाती नदी।
गए पखेरू छोड़ करके
नीड़ अपने तीर के।
बीते दिनों की याद कर
रह - रह अकुलाती नदी।।
जब बरसते मेघ छमछम
सभी किनारे तोड़कर।
बस्तियों को लील करके
बहुत कहर ढाती नदी।।
अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें