अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
01.27.2016


बाल कविताएँ - 4

16
तिरंगा

सदा तिरंगा झण्डा प्यारा
ऊँचा इसे उठाएँगे हम।
चाहे जान हमारी जाए
इसको नहीं झुकाएँगे हम।

17
तोता
सीटी सुनकर नाच दिखाए
कुतर-कुतर कर फल खा जाए।
टें-टें करके गाता तोता
देख शिकारी झट उड़ जाए।

18
फल
सबसे मीठा और रसीला
सभी फलों का राजा आम।
एक सेब जो खाए रोज़
उसे बीमारी से क्या काम।
नाशपाती, केला, अंगूर
पपीता भी खाओ ज़रूर।
लीची, नारंगी, अनानास
नींबू का रस सबसे ख़ास।

19
मोटूराम
कभी इधर तो कभी उधर को
चलते जाते मोटूराम।
मोटर वाला भी चकराया
कहाँ जा रहे मोटूराम।
बीच सड़क में घबरा करके
गिरे अचानक मोटूराम।
चोट लगी घुटनों पर भारी
उठते कैसे मोटूराम।

20
मेंढक जी
छाता लेकर मेंढक निकले
जैसे अपने घर से।
गरज-गरजकर, घुमड़-घुमड़कर
बादल जमकर बरसे।
भीगे सारे कपड़े उसके
हो गया तेज़ बुखार।
कछुए ने देदी दवाई
और लगे इंजेक्शन चार।
.…………………………………………॥


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें