अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
07.08.2014


चितेरा कथाकार

श्रीमान ‘क’ महानगर के लब्ध-प्रतिष्ठ कथाकार थे। यद्यपि वे चाँदी का चम्मच लिए पैदा हुए और पश्चिमी संस्कृति से ओतप्रोत थे तथापि उनकी कलम सदा गरीबों व वंचितों के दायरे में ही घूमती थी। गरीब-गुरबे ही उनकी कहानियों का कच्चा माल थे। वे कई साहित्यिक संस्थानों के ऊँचे पदों पर शोभायमान थे और साहित्य में कम, राजनीतिक साहित्य में अधिक रस लेते थे। इस वर्ष भी उनके नए कहानी-संग्रह ‘आधी रात में भूखे बच्चे’ को सर्वश्रेष्ठ कथा-सम्मान पुरस्कार देने की घोषणा हुई थी। यह अलग बात थी कि अपनी पचास साला ज़िंदगी में उनका भूख से कभी सपने में भी आमना-सामना हुआ हो। विडंबना तो यह थी कि फिर भी पुरस्कार-वितरण समितियाँ उनकी कहानियों में न जाने कहाँ से मौलिकता की गंध ढूँढ ही लेती थी और उन्हें समकालीन श्रेष्ठ चितेरे कथाकार का दर्जा देती थी।

आज सुबह से ही श्रीमान ‘क’ बेचैन दिखाई दे रहे थे क्योंकि उन्हें आज पुरस्कार-वितरण समारोह में सम्मानित किया जाना था, लेकिन हर बार की तरह इस बार भी देरी का कारण उनकी आधुनिका पत्नी का मेकअप था। उनकी पत्नी की भी हिन्दी साहित्य में बिलकुल रुचि न थी, लेकिन मान-सम्मान की भूख उन्हें भी उतनी ही थी, जितनी श्रीमान ‘क’ को थी।

श्रीमान ‘क’ अपने ड्राईवर से बोले-“आज तुम पीछे बैठो, नई कार का उद्घाटन हम करेंगे।” दोनों पति-पत्नी अपनी नई फिएस्टा में धँस गए। आकाश में धुँध छाई हुई थी, लेकिन फिर भी श्रीमान ‘क’ बड़ी तेजी और उतावली में कार चला रहे थे। अचानक उनका ध्यान भंग हुआ, उनकी गाड़ी का का बाहरी शीशा किसी आदमी को बहुत बुरी तरह लगा और वह ‘बचाओ’ कहता हुआ ज़मीन पर गिर पड़ा। श्रीमान ‘क’ ने बहुत मुश्किल से गाड़ी को सँभालते हुए ब्रेक लगाई।

ड्राईवर गाड़़ी से निकलकर घायल आदमी के पास गया तो उसे देखकर उसका दिल पसीज गया। उस आदमी के हाथ और मुँह पर चोटें आईं थी, लेकिन वह अपनी चोटें भूल, ज़मीन पर बिखरे चावल अपने थैले में भर रहा था। ड्राईवर ने उससे कहा कि तुम्हें डॉक्टर के पास ले चलते है। वह आदमी बोला- "नहीं बाबूजी, कल से मेरे दोनों बच्चों और पत्नी ने अन्न का एक दाना भी नहीं खाया है। मुझे अब किसी भी तरह घर जल्दी पहुँचना है।"

"बचाव तो हो गया?" -श्रीमान ‘क’ ने पूछा।

"हाँ,"- ड्राईवर बोला।

"तो फिर इतनी देर वहाँ क्या कर रहे थे? पहले ही काफी देर हो चुकी है, चलो अब तुम ड्राईव करो, न जाने कहाँ से सुबह-सुबह मरने चले आते हैं। ड्राईविंग का सारा मज़ा ही किरकिरा कर दिया," - श्रीमान ‘क’ झल्लाते हुए बोले।

"साहब, बेचारे को बहुत चोट लगी लेकिन कुछ न बोला। वह बहुत सीधा और ईमानदार आदमी था, उसकी जगह अभी कोई और आदमी होता तो न जाने हमारे साथ क्या करता?"-ड्राईवर ने बोलते हुए पीछे देखा। श्रीमान ‘क’ आँखें बंद किए न जाने कौन-सी दुनिया में सैर कर रहे थे और उनकी पत्नी अपना मेकअप ठीक कर रही थी। ड्राईवर के सामने ही श्रीमान ‘क’ का कहानी-संग्रह ‘आधी रात में भूखे बच्चे’ ऊपर रखा हुआ था और उसका आवरण उसे मुँह चिढ़ा रहा था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें