रमेश देवमणि


कविता

अपनी ज़िन्दगी
कल
कैद
गुलाम
घर
मन के भीतर
हम