अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
04.09.2017


पैर व चप्पलें

चप्पलें पत्थर का प्रहार
काँटों से घायल छाती का
असहनीय दर्द
आग सी तप्त धरा क्रोधित
काँच के टुकड़ों से लहुलुहान होकर भी
डटी रहती है महायोद्धा सी
किसकी हिम्मत कि पैरों का
कोई बाल बाँका कर सके
लेकिन पैर होते है बड़े निष्ठुर
अपने ही पैरों से दिन-रात रौंदते हैं
इन्हीं चप्पलों को!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें