अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
पीड़ा को विश्व का साम्राज्य दो (गीत)
डॉ. रमा द्विवेदी

जाओ हवाओ देश प्रिय के, विरह के गीत गाओ तुम,
जाओ घटाओ जाओ जाओ, विरहाग्नि न भड़काओ तुम।

इस विरह के ताप से जर-जर के मैं ठठरी भई,
श्वास यूँ तो चल रही पर श्वास अनगिन चुक गई।
झर रहे हैं अश्रु आँखों से उन्हें बतलाओ तुम॥

दिन-रात में अन्तर नहीं इक से मुझे दोऊ लगे,
दिन में अँधेरी रात है और रात में तारे गिने।
मेघों ने पी चाँदनी ली, चाँद को बतलाओ तुम॥

गीली-सुलगती लकड़ी सी यह रात भी जल गई,
रात से सुबह हुई फिर शाम में वो ढल गई।
जल रहा है तन-बदन प्रिय को जरा बतलाओ तुम॥

इस विरह की अग्नि में देखो दिवाकर जल गया,
चांद झुलसा, श्वेत बादल आज काला पड़ गया।
कर रहा पीऊ-पीऊ पपीहा स्वाति-घन बरसाओ तुम॥

इस विरह की पीड़ा को तुम विश्व का साम्राज्य दो,
सब जुड़े बस दर्द से तब मानव का कल्याण हो।
साथ सब रोएँ-हँसे सबको जरा समझाओ तुम॥



अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें