अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
03.15.2008
 

नव वर्ष प्रकाश
राखी चन्डक


नव वर्ष प्रकाश का प्रसार हुआ!

                है सूर्य देव का ये वरदान!!

नव अश्वों के वेग पर जैसे!

                भानुराज हो विराजमान!!

सच हों सबके सपने!

             हों पूरे सब निर्मल अरमान!!

मन शांति का निवास रहे!

                 यही अनुग्रह है भगवान!!

हर्ष पल्लवित पल्लव हर्षित!

                     चेहरे हो अनजान भी!!

हर चेहरे पर बिखरी हो!

                  शबनम की मुस्कान सी!!

स्वागतम नवनीत प्रभा!

                    दे हमें रौशनी ज्ञान की!!

हो विजयी सच्ची प्रीत सदा!

                     प्रगती हो निर्माण की!!

हो द्वेष रहित हर वर्ष नया!

              सबको शुभ हो वर्ष नया!!


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें