अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
सम्बोधन पर आकर अटकी
राकेश खण्डेलवाल

सोचा मैने लिखूँ तुम्हें इक पत्र हृदय के भावों वाला
लेकिन संबोधन पर आकर अटकी रही कलम बेचारी

चाहा लिखूँ चम्पई फूलों के रंगों के पाटल वाली
चाहा लिखूँ अधर पर खिलते कचनारों की लाली वाली
सोचा लिखूँ सुधा का झरना देह धरे उतरा है भू पर
केसर में भीगी हो चन्दन की गंधों से महकी डाली

शतरूपे ! पर सिमट न पाता शब्दों में विस्तार रूप का
शब्दकोश ने हार मान कर दिखला दी अपनी लाचारी

सोचा छिटकी हुई ज्योत्सना लिखूँ शरद वाली पूनम की
सोचा लिखूँ प्रथम अँगड़ाई, फ़ागुन के बहके मौसम की
प्राची के मस्तक पर रखती हुई मुकुट इक रश्मि भोर की
याकि प्रेरणा एक सुखद तुम, लिखूँ अजन्ता के उद्‌गम की

कलासाधिके ! कोई तुलना न्याय नहीं तुमसे कर पाती
क्या मैं देकर नाम पुकारूँ, बढ़ती रही मेरी दुश्वारी

सृष्टा की जो मधुर कल्पना, कैसे उसको कहो पुकारूँ
जो है अतुल उसे मैं केवल शब्दों से किस तरह सँवारूँ
चित्रलिखित हैं नयन और वाणी हो जाती है पाषाणी
तब भावों की अभिव्यक्ति को, किस साँचे में कहो उतारूँ

मधुर सरगमे ! एक नाम से सम्बोधित कर सकूँ असंभव
एक फूल में नहीं समाहित होती गंध भरी फुलवारी

इसीलिये संबोधन पर आ अटकी रही कलम बेचारी

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें