अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
साँझ दुश्मन है
राकेश खण्डेलवाल


साँझ तन्हाई की चुपचाप चली आती है
और अनचाहे मेरी आँख भिगो जाती है
साँझ दुश्मन है, कभी दोस्त नहीं थी मेरी

टुकड़े टुकड़े में बँटी चाँदनी दिखती ऐसे
फाड़ा हो प्यार का खत अपना किसी ने जैसे
सतरें हैं किन्तु इबारत नहीं दिख पाती है
साँझ तन्हाई की चुपचाप चली आती है

अजनबी रात के साये हैं प्रश्न चिन्ह बने
ख़्‍वाब धुँधलाते रहे याद की कीचड़ से सने
वक्त की पूँजी हवा छीन के ले जाती है
साँझ तन्हाई की चुपचाप चली आती है

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें