अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
एक दिवस वह डरा डरा सा
राकेश खण्डेलवाल


एक दिवस जब तुम मुझसे थे अनजाने ही दूर हो गये
वह इक दिवस आज भी मेरी आँखों में है भरा भरा सा

वह इक दिवस ज़िन्दगी की पुस्तक का पन्ना फटा हुआ सा
जोड़ गुणा के समीकरण में से केवल वह घटा हुआ सा
रंग बिरंगे कनकौओं की आसमान में लगी भीड़ से
एक वही है पड़ा धरा पर बिना डोर के कटा हुआ सा

वह दिन देखा रथ पर चढ़ कर जाती थी अरण्य वैदेही
और दग्ध मन लिये विजेता लंका का था डरा डरा सा

वह दिन जब कुन्ती ने अपना लाड़ बहाया था पानी में
वह दिन हुए अजनबी पासे, जब इक चौसर पहचानी में
वह दिन पाँव बढ़े थे आगे, जब खींची सीमा रेखा से
वह दिन बिके भाव जब मन के और बिके केवल हानी में

वह दिन अटका हुआ याद के दरवाजे को पकड़े ऐसे
जैसे एक नीर का कण हो पत्ते पर, पर झरा झरा सा

वह दिन अगर इबारत होता लिखी, सुनिश्चित उसे मिटाता
वह दिन भाव मात्र यदि होता, तो मैं उसे शब्द कर जाता
वह दिन लेकिन एक फूल के साथ रहे कांटे के जैसा
जितना चाहूँ उसे भुलाना उतना सीने में गहराता

वह दिन, एक अकेला पत्ता ज्यों पतझर की अँगनाई में
अटका हुआ शाख पर सबसे विलग हुआ पर हरा हरा सा

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें