अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
धूप
राकेश खण्डेलवाल


बैठी है कबसे आँगन में अलस घुली उजियारी धूप
रह रह मुझसे बतियाती है तन्हाई की मारी धूप

वैसे तो आने वाला इस ओर नहीं है कोई भी
फिर भी कागा बन मुँडेर पर आकर मुझे पुकारी धूप

कंगूरों पर चढ़ कर बैठी, दालानों से दूर रही
बंगलों में रहती है, शायद हो बैठी सरकारी धूप

दुल्हन की आँखों का काजल यूँ तो अक्सर रात बनी
अब श्रन्गार नया करती है साँझ ढले कजरारी धूप

सोचा था मैने बातों में हँस कर समय गुजर लेगा
लेकिन फिर ले आई यादें प्रियतम की बजमारी धूप

इसमें इसका दोष नहीं है, मुझे गीतिका लिखनी थी
शब्द कोई चुनना था, मैने चुन ली यही बिचारी धूप


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें