अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.17.2014

परिचय  
 
नाम : राकेश खण्डेलवाल
   
  अपने दोषों पर पछ्तावा जो मन ही मन कर लेता हो
अपनी समाधि को जो खुद ही रह रह सँवारता छ्न्दों से
जिसके हर गूँगे उत्तर पर अक्सर सवाल हँस देते हैं
वह मैं हूँ बंधा हुआ केवल अपने स्वप्निल अनुबन्धों से
  - राकेश खण्डेलवाल
  राकेश खण्डेलवाल पिछ्ले २१ वर्षों से यू.एस. ए. में हैं। काव्य लेखन लगभग ३५ वर्षों से नियमित है। विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित होने के अतिरिक्त इनकी एक पुस्तक "अमावास का चाँद" प्रकाशित हुई है।
संपर्क : rakesh518@yahoo.com