अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
05.03.2012
 
गीत गाऊँ आज बोलो
राकेश खण्डेलवाल


हो गया सिन्दूर का रंग केसरी तप कर विरह में
किस तरह श्रंगार के फिर गीत गाऊँ आज बोलो

पीर ने भेजे मुझे नित नेह के अभिनव निमंत्रण
अश्रुओं ने बाँह फैला कर मेरा स्वागत किया है
लड़खड़ाते पाँव रखती गिर पड़ी जो आस थक कर
एक उसने ही निरंतर साथ बस मेरा दिया है
दस्तकों के अर्थ सिमटे रह गये हैं गिनतियों तक
किस तरह बोलें? हृदय के द्वार अपने प्राण खोलो

सुरधनुष के रंग सारे पी गई हैं कालिमायें
दीप रह रह पूछते हैं और कब तक टिमटिमायें
सूर्य ने अवकाश लेकर भोर से आँखें चुरा लीं
झुनझुने आश्वासनों के अब कहो कब तक बजायें
उठ रहे हैं हर दिशा से तिमिर के गहरे बवंडर
रोशनी की इस अकारण मृत्यु पर, पल आज रो लो

आस्था की ज्वाल हिम की वादियों में सो गई है
बार हर सन्दर्भ के बिन अर्थ अपना खो गई है
नीति के जर्जर पड़े खंडहर, की एक सिल पर
एक बदली संस्कृति के बीज फिर से बो गई है
वक्त की चट्टान पर जो जम गई है राख की तह
क्या दबी उसमें कहीं है कोई चिन्गारी टटोलो

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें