अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.01.2014


लोकतंत्र की बातें करना

लोकतंत्र की बातें करना, अच्छी बात नहीं है
हालातों से ऐसे डरना, अच्छी बात नहीं है

दब-दब कर जीते हो जीवन, सहकर अत्याचार सभी
सब कुछ सहना, कुछ न कहना, अच्छी बात नहीं है

अगर नहीं है कोई जगह तो बीच सड़क पर सो जाना
दबकर यूँ फुटपाथ पे मरना, अच्छी बात नहीं है

इस जंगल में नई इमारत उगती है हर रोज़ मगर
नहीं कहीं है कोई झरना, अच्छी बात नहीं है

लड़ना सीखो, मरना सीखो, हक़ की बात करो हरदम
आँसू बनकर बहते रहना, अच्छी बात नहीं है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें