रजनी कुमारी

कविता
कैसे होते हैं वह अच्छे घर
घर से भागी हुई लड़कियाँ
मेरा भी कोई घर होगा ना माँ
मैं नकारती हूँ प्रेम
हिस्से की धूप