अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
05.26.2014


हिमखंड

पिघलते हैं
हिमखंड
सर्द रिश्तों के

तुम, प्यार सने
विश्वास की
उष्णता
देकर तो देखो


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें