अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


उम्मीद

जिनके बाजू नहीं होते
ज़्यादा बोझ उठा लेते हैं,
खो देते है जो आँखें
देख लेते है वो रूह भी,
बिन कानों के भी
जान लेते है कुछ लोग
दिल की सारी बातें,
जहाँ जो नहीं होता
वहाँ वो मिल जाता है
अक्सर।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें