अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


पेड़

इस खाली जगह पे
क्यों मंडराता है ये परिंदा,
यहाँ पे
शायद उसका आशियाना था।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें