अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


गलती

तेरी गलती नहीं है इसमें,
जो तू जलता है, बुझता भी,
आग है तुझमें,पानी भी,
और
हवा की रवानी भी।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें