अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.19.2014


भगवान

कबसे है परदे के पीछे
मुझको इशारे करता रहता है,
मेरी जगह पे आ के देख कभी
कितना कठिन है
तेरी इस दुनिया में रहना।


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें