राजेश्वरी जोशी

कविता
आख़िर कब तक
दूर भले हो मंज़िल तेरी
लघु कथा
राधा विदा हो गयी