डॉ. राजेश कुमार


कविता

आशंकित शहर
क्यों
दस बूँदें
ये किसका खून बह रहा है...
सूरज और मैं
होटल का कमरा

आलेख

दुखिया सब संसार