राजेन्द्र सारथी

कविता
खुलेआम अब जिस्मों का ...
प्रेमियों की गुफ़्तगू
विरह की तड़प