राजेन्द्र कुमार

लघुकथा
खाई