अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली मुख्य पृष्ठ
08.11.2007
 
बाँस बरोबर आया पानी
डॉ० राजेन्द्र गौतम

 

               बादल आए इंद्रधनुष ले

                   टूट पड़ी सेना अंबर से

                       हुए पराजित गाँव।

 

                  बाँस बरोबर आया पानी

                  बहती जाती छप्पर-छानी

                  फिर भी मस्ती में रजधानी

 

                   यों तो उत्सव-संध्याओं में

                   चर्चे इनके ही होते हैं

                          पर आशंकित गाँव।

 

                 ढाणी, टिब्बों फोग-वनों में

                 कैसा छाया सोगमनों में

                 भय का फैला रोग जनों में

 

                       बिजली कोड़े बरसाती है     

                       खाल उधेड़ी इसने तन की
                              थर्-थर् कंपित गाँव।

 

                 किधर गया रलदू का कुनबा

                 बिखर गया हरदू का कुनबा

                 बदलू का भी डूबा कुनबा

 

                   बोल लावणी के कजली के

                   सब गर्जन-तर्जन में डूबे

                      छितरा जित-तित गाँव।

अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें