रजनीकान्त राकेश

कविता
अर्थ - पिशाच
चुम्बन
जोंक
तिजारती
नारी!
बेटी
शव परीक्षण - गृह
दीवान
ज़मीं उनकी है आसमां नसीब नहीं