अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
11.17.2014


….तो कैसे विश्वास करोगे

जिया जिसे मैं वह गाऊँ तो भी तुम हो संदेह जताते
अनदेखी-अनसुनी कहूँगा, तो कैसे विश्वास करोगे !

रात किसी विधि सो पाया जो थपकी-लोरी से माँ की
सुबह उसी नाबालिग के हाथों में होती है बाँकी
गर विश्वास न हो तो मेरे गाँव चलो हे शहर निवासी
दिन ही तुम्हें दिखेंगे तारे, उल्टी-उल्टी साँस भरोगे !

दुनियाँ उतनी सुखी नहीं, तुम जीते हो जितने सुख से
लाखों भूखे, लाखों प्यासे लाखों के ख़ून बहे मुख से
हे धनिक न सह पाओगे तुम वह दुख किसान मजदूरों का
दे दोगे मुझको ज़हर या कि फिर डाल स्वयं गलफाँस मरोगे !

मिट्टी से परिचय न तुम्हारा रिश्ता कोई नहीं खेत से
अन्न जिसे तुम सुबह शाम खाते हो, मिलता नहीं रेत से
तिनके-तिनके हेतु बहाता ख़ून-पसीना है किसान
और कहूँगा तो तुम मेरी बातों का परिहास करोगे !


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें