अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.04.2014


प्यार मेरे द्वार आया

प्यार मेरे द्वार आया आज अपनापन लिए
कान में कुण्डल लगाए आँख में अंजन लिए

बावला बेताब मन लो नाचने-गाने चला
कुछ नहीं परवाह कितने राह में बंधन लिए

मैं अघा जाऊँ न पीकर जब तलक नज़र-ए–हया
सामने रहना खड़ी तुम साथ में सावन लिए

जब कभी जीवन सफ़र में हौसला छूटा, अभी तक
याद है हर बार आ जाना तेरा छाजन लिए

प्यार की मासूमियत पहचानते हैं बस वही जो
जी रहे हैं जिंदगी में प्यार का सा मन लिए

अब न कोई और ख़्वाहिश इश्क़ में बाकी रही
उम्र यूँ ही गुज़र जाये हाथ में दामन लिए


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें