अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
03.05.2016


माना कि उसमें जज़्बा ख़ूब

माना कि उसमें जज़्बा ख़ूब, ताव बहुत है
पर ज़िंदगी के दरमियां बिखराव बहुत है

दुनियाँ के रंगमंच में किरदार निभाते
कुछ लोगों के जीवन में हाव-भाव बहुत है

बचकर रहूँ तो कैसे मैं दुनियाँ की चमक से
हर पग पे ही तिलिस्म है भटकाव बहुत है

जिसपे किया निसार दिल-ओ-जां उसी ने सुन
दिल में उतर के दिल को दिया घाव बहुत है

बेटे को हर समय जो पिता डाँटता है तो
मतलब है इसका बेटे से लगाव बहुत है

मिलता रहा होके शहर में भी सभी से मैं
मेरे ज़ेहन में क्यूँकि अब भी गाँव बहुत है

कोयल है चुप - उदास यहाँ इसलिए कि अब
महफ़िल में चारों ओर काँव-काँव बहुत है


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें