अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
10.14.2016


क्रोध हूँ मैं

 देखकर निज वैर बँधता जीव अपने आप मुझमें
क्रोध हूँ मैं

मैं बहुत बलवान हूँ
नियति और विधान हूँ
सृजन का प्रथमांश
पूरी सृष्टि का अवसान हूँ
मैं जला देता हृदय को, अग्नि का सा ताप मुझमें
क्रोध हूँ मैं

स्वजन को विगलित करूँगा
बुद्धिनाशक बाण हूँ
दनुज का सिरमौर
सात्विक वृंद अरि का प्राण हूँ
मित्र हूँ दुःस्वप्न का, है कोटिशः अभिशाप मुझमें
क्रोध हूँ मैं

रुद्र के त्रयनेत्र से
भस्मित किया कंदर्प को
यज्ञलौ बन किया मैंने
व्यथित तक्षक सर्प को
कलुष मन का गीत हूँ मैं, द्वेष का आलाप मुझमें
क्रोध हूँ मैं


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें