अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
02.04.2015


कौन हो तुम चोर!

रात की निस्तब्धता में
कौन हो तुम चोर !

साँझ को जब खेत से आया
नमन के हेतु
एक अञ्जुल जल मिला बस
आचमन के हेतु

वही पीकर नींद का
आह्वान करता सो रहा हूँ;
क्या चुराना चाहते हो
‘भूख’ या फिर ‘भोर’!

झोपड़ी को लूटना ही
शान होती है महल की,
यह तुम्हारा धिक प्रदर्शन
है उसी की एक झलकी

अब तुम्हारी ही समझ पर
फैसला मैं छोड़ देता,
बोल इसको नाम क्या दूँ,
‘अनघ’ या ‘अनघोर’


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें