अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
09.04.2014


हम जिए जाएँ लम्हें हर..

हम जिए जाएँ लम्हें हर शान के मुताबिक़
हर शाम गुज़र जाये अनुमान के मुताबिक़

कुछ ऐसा करिश्मा हो मिट जाएँ भेद सारे
अल्लाह के बंदे चलें भगवान के मुताबिक़

कुछ दिन पढ़ें गीता सभी हम साथ बैठकर
कुछ दिन कदम बढ़ाएँ क़ुर-आन के मुताबिक़

सुबहो भजन सुनाएँ, दिन भर ख़ुशी में झूमें
संझा को सुर लगाएँ, फिर अज़ान के मुताबिक़

दिन में मनाएँ होली रातों में हो दिवाली
पर इनके बीच जी लें रमज़ान के मुताबिक़

दूल्हे क़िसिम-क़िसिम के, हैं हाट में बिकाऊ
बोली लगाओ, पाओ ‘वर’ दान के मुताबिक़

राजा हुए किनारे, होने लगे महल के
अब तो हर-एक फ़ैसले दरबान के मुताबिक़


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें