अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली
ISSN 2292-9754

मुख पृष्ठ
12.29.2014


आओ अब स्कूल चलें

आओ अब स्कूल चलें हम
आओ सब स्कूल चलें हम

सुबह नहाकर खाना खायें
दिन का खाना स्कूल में
खेल-कूद है खूब, तो फिर
क्यों देर से जाना स्कूल में

सर जी प्यार करेंगे हमसे
मैडम जी पुचकारेंगी
हम सब अगर पढ़ेंगे मन से
मैडम जी क्यों मारेंगी

चलो सभी स्कूल खुला है
घर में छुपकर मत बैठें
आगे बढें, शिखर छू लें हम
घर में चुप कर मत बैठें

पढ़ें-लिखें और खेलें-कूदें
गाना गाएँ स्कूल में
बनें चैम्पियन, नाम हमारा
जाना जाए स्कूल में

आओ अब स्कूल चलें हम
आओ सब स्कूल चलें हम


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें