अन्तरजाल पर साहित्य प्रेमियों की विश्राम स्थली

मुख पृष्ठ
03.15.2014


सर्विस चार्जेज

बुलन्द दरवाज़े के सामने खड़े होकर फोटो खिंचवाने के लिए सारे युवक मचल रहे थे। कैमरा तो उनके पास था मगर फोटो कौन खींचे इस पर सब मौन थे।

तभी एक फोटोग्राफर ने आकर पूछा, "फोटो बनवायेंगे साहब?"

युवक बोले, "नहीं हमारे पास कैमरा है।"

फोटोग्राफर बोला- "चलो आप ही के कैमरे से खींच देता हूँ।"

सभी युवक फोटो खिंचवा रहे थे और मुक्तकंठ से फोटोग्राफर की नेकनीयती और शराफ़त की प्रशंसा कर रहे थे।

जब सबने अलग-अलग एंगल से फोटो बनवा लिए तो चलने की तैयारी हो गई। एक युवक ने धन्यवाद कहते हुए फोटोग्राफर से कैमरा माँगा तो वह बोला- "धन्यवाद से पेट नहीं भरता। मैंने आप लोगों के 22 फोटो खींचे हैं, आप 110 रुपये सर्विस चार्ज दें, तभी आपको कैमरा मिलेगा।"


अपनी प्रतिक्रिया लेखक को भेजें